Saturday, May 3, 2014

गुड लाइफ :सूरज के साथ उठें

                                                                       - मिलन सिन्हा 
Displaying 9045854.jpgपुरानी अंग्रेजी कहावत है: अर्ली टू बेड एंड ....भावार्थ यह कि रात में जल्दी सोनेवाले और सुबह जल्दी उठने वाले इंसान,  होते हैं स्वस्थ, संपन्न व बुद्धिमान। स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते  हैं कि सूर्योदय के वक्त  उठना कई    मायने  में बहुत लाभकारी होता है। शांत व नीरव माहौल में प्रकृति के साथ बिताये वे पल न केवल आपको शारीरिक रूप से स्वस्थ  रखने में अहम् भूमिका अदा  करते हैं  बल्कि आपके  दिलो-दिमाग को भी चुस्त - दुरुस्त और तरोताजा होने का सुखद एहसास  करवाते  हैं। जल्दी उठने से हमारी कार्य क्षमता बढ़ती  है और हम अपने  काम में आगे रहते हैं। देखिए न, मात्र  एक ऐसे पहल  से  हमारे  पास हर जरुरी काम के लिए पर्याप्त समय रहता है जिससे हम मानसिक रूप से तनावमुक्त भी रहते हैं। और तो और मॉर्निंग वाक, योग व मेडिटेशन के लिए वक्त तो मिलता ही है, देश -दुनिया की खबर से बाख़बर रहने के लिए अख़बार पढ़ने का समय भी मिल जाता है जिससे तन, मन, मानस सब फिट रहते हैं। तमाम शोध व सर्वे यह भी बताते हैं कि देर रात तक पढ़ाई करनेवाले बच्चों की तुलना में सुबह उठ कर पढ़नेवाले बच्चे ज्यादा स्वस्थ व कुशाग्र होते हैं।  

कतिपय कारणों से कई लोगों की सुबह देर से होती है। फलतः वे सुबह का नाश्‍ता ठीक से नहीं कर पाते हैं जो स्वास्थ्य की दृष्टि से  नुकसानदेह  है। सच तो यह है कि सुबह का पौष्टिक आहार  हमारे शरीर रूपी इंजन को एक जोरदार किक स्टार्ट  देने के लिए अनिवार्य है। कहते हैं न कि मॉर्निंग शोज दि डे अर्थात सुबह की अच्छी शुरुआत दिनभर के कार्य की दिशा -दशा तय करनेवाला साबित होता है। इसका सकारात्मक असर समय से स्कूल, कॉलेज, आफिस या कार्यस्थल  पहुँचने से लेकर हमारे कार्य निष्पादन तक होता है। सार संक्षेप यह कि सूरज के साथ उठनेवालों  के दिन का आगाज ऊर्जा एवं उत्साह से भरा हुआ होता है, सो अंजाम भी बेहतर होता है। 

                  और भी बातें करेंगे, चलते-चलते । असीम शुभकामनाएं

No comments:

Post a Comment